Tuesday, July 26, 2011

मौत...




सारी उम्र किसी के साथ को तरसा...
सारी उम्र एक आस को तरसा ...
मुझे मालूम न था...
मौत इतनी हसीन होती है ....
हजारों का कारवां था मेरे जनाजे के साथ..
जिस के लिए मै दिन रात आखिरी सांस तक तरसा....

No comments:

Post a Comment