दर्द कटते पेड़ का...




जब मैं कटा...
आरी,रस्सी,कुछ मजदूर
एक ठेकेदार,कुछ तमासबीन
ये थे मेरे चारों ओर,
क्यूँ ???
अरे यार क्यूँकि मैं काटा जा रहा था !!!
एक ने ठेकेदार से वजह पूछी,
रौब दी मुछों में और ताव दे कर कहा,
देख नहीं रहे हो सड़क बन रही है |
भारत निर्माण की ओर कदम है हमारा,
हर गाँव में सड़क पहुचें संकल्प है हमारा ||
पर ये पेड़ सड़क के दायरे में तो नहीं,
फिर क्या वजह है इसे काटने की?
पूछा दूसरे आदमी ने
तू ज्यादा जानता है या सरकार???
सरकार को ये दायरे में लगा तो काट रही है |
पर इस की तो लोग पूजा करते हैं,
खलबली मची कुछ लोगों के बीच,
ठेकेदार बोला सरकार किसी से नहीं डरती
भगवान् से भी नहीं
पर झुला टंगता है बच्चों का इस में,
किसी ने सुझाया |
तो ठेकेदार ने बताया,
क्या करेंगे बच्चे खेल के,
ओपनिग तो सचिन,सहवाग और उन के बच्चों ने ही करनी है,
और इन झूलों पर खेल कर बच्चों ने सिर्फ कमीजें गन्दी करनी हैं |
लोगों के सारे खाने पस्त थे, ठेकेदार भईया मस्त थे |
कहा मजदूरों को काटो इसे चलाओ आरी,
अब सिर्फ है पेड़ काटने की बारी,
घंटे दो घंटे में मैं धराशाही हो गया,
कई हिस्सों में काट कर मुझे वहाँ से ले गये |
मजदूरों ने रस्सी और आरी उठाई,
ठेकेदार ने फिर ताव दिया मुछों पे,
और गाड़ी में बैठ चले गये|
पर लोगों का साथी पेड़ अतीत में खो गया,
किसी के भगवान् छीने था,
किसी का छिना था दोस्त,
खैर ये तो सिर्फ थी आज की बात थी
वक़्त बदला दुनिया बदली,
ना अब भगवान् की जरुरत है ना दोस्त की
मेरे खत्म होती ही जज्बात और रिश्ता
सिर्फ लोगों की यादों में बाकी है|

Share:

15 comments:

  1. आपकी इस उत्तम रचना को "http://hindibloggerscaupala.blogspot.com/"> {शुक्रवार} 4/10/2013 शामिल किया गया हैं कृपया अवलोकनार्थ पधारे धान्यवाद

    ReplyDelete
  2. पूरी रचना बहुत ही खूब.कुछ भी छोड़ दूं तो नाइंसाफी होगी.

    ReplyDelete
  3. एक सम्पूर्ण पोस्ट और रचना!
    यही विशे्षता तो आपकी अलग से पहचान बनाती है!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  5. This Is The Proper Weblog For Anyone Who Desires To Find Out About This Topic.
    navigate here You Understand A Lot Its Nearly Arduous To Argue With You (not That I Really Would Need?HaHa). You Positively Put A New Spin On A Subject Thats Been Written About For Years. Great Stuff, Just Great!

    ReplyDelete

  6. You Judi Online Made Judi Online Some Judi Online Decent Factors Judi Online There. I Judi Online Seemed On The Internet For The Problem And Located Most Judi Online Individuals Will Go Along With Along With Your Website. Judi Online

    ReplyDelete

  7. I'm Really Judi Bola Enjoying Judi Bola The Theme/design Judi Bola Of Your Judi Bola Weblog. Do You Ever Run Into Any Internet Browser Compatibility Problems? A Handful Of My Blog Audience Have Complained About My Blog Not Judi Bola Working Correctly In Explorer But Looks Great In Opera. Do You Have Any Ideas To Help Fix This Problem?

    ReplyDelete
  8. I Would Also Love To Add That In Case You Do Not Surely Have An Insurance Policy Otherwise You Do Not Belong To Any Group Insurance, You Might Well Reap The Benefits Of Seeking The Aid Of A Health Insurance Broker. Self-employed Or Individuals With Medical Conditions Typically Seek The Help Of One Health Insurance Agent. Thanks For Your Article. Agen Bola

    ReplyDelete
  9. Advertising And *********** With Adwords. Anyway I?m Including This RSS To My E-mail And Could Look Out For A Lot Extra Of Your Respective Exciting Content. Ensure That You Replace This Again Soon..
    domino online

    ReplyDelete